H3N2 Virus Symptoms: कोरोना ने देश में जमकर कहर बरपाया. सैंकड़ों लोगों की वायरस की चपेट में आकर मौत हो गई, जबकि लाखों संख्या में लोग संक्रमित हो गए. हर्ड इम्यूनिटी, वैक्सीनेशन और कोविड प्रोटोकॉल के कारण वायरस अब उतना असरदार नहीं रहा है. इन दिनों एक और वायरस से हड़कंप मचा हुआ है. ये है H3N2 वायरस. सूत्रों के हवासे खबर है कि इससे एक मौत हरियाणा, जबकि एक कर्नाटक में हुई है.कहानी अभी बाकी हैलाइव टीवी
पिछले कुछ दिन में इन्फ्लूएंजा एच3एन2 वायरस के केस तेजी से बढ़ रहे हैं. वैज्ञानिकों का कहना है कि इस वायरस से संक्रमित होने वाले लोगों में सांस की गंभीर समस्या देखने को मिल रही है. इसके लक्षणों की बात करें तो तेज बुखार, खांसी, सांस फूलना और घबराहट जैसे लक्षण दिख सकते हैं. वहीं, डॉक्टर एंटीबायोटिक से इस वायरस का इलाज कर रहे हैं.
घर की रसोई में रखी इन एंटीबायोटिक गुणों वाली चीजों को करें इस्तेमाल- 
1. शहद का उपयोग- शहद एंटीबैक्टीरियल, एंटी फंगल गुणोें से भरपूर होता है. आमतौर पर एच3एन2 वायरस से संक्रमित होेने पर यह कोविड की तरह लंग्स पर अटैक करता है. शहद श्वसन तंत्र को ही मजबूत करने का काम करता है. इससे खांसी का खतरा बहुत कम रहता है. अदरक के जूस के साथ शहद खांसी में रामबाण की तरह काम करता है. आप गर्म पानी में अदरक और शहद डालकर भी चाय की तरह पी सकते हैं. 
2. नमक के पानी से गरारा करें- नमक भी गले में होने वाली सूजन के लिए दवा का काम करता है. बस इसे गर्म पानी में मिलाकर गरारे के रूप में करें. यह एंटी इंफ्लेमेटरी हेाता है. गुनगुना पानी से गरारे करने पर बलगम पिघलकर बाहर निकल जाता है. गला अधिक खराब है तो दिन मेें दो से तीन बार कर सकते हैं. 
3. भांप ले सकते हैं- श्वसन तंत्र को आराम देने के लिए भाप लेना बेहद कारागर माना जाता है. डॉक्टर की सलाह पर दवा डालकर भाप लेने के बहुत फायदे होते हैं. अगर दवा भी नहीं डाल पाएं हैं और गर्म पानी की भाप ले रहे हैं तो इससे भी श्वसन तंत्र में जमा बलगम पिघलकर बाहर निकलता है. 
(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले चिकित्सीय सलाह जरूर लें. ZEE NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.)
भारत की पहली पसंद ZeeHindi.com – अब किसी और की ज़रूरत नहीं



Source link