[ad_1]

आदित्य कृष्ण/अमेठी. अगर हौसला हो तो जीवन में रोशनी भरने का भी काम किया जा सकता है. ऐसा ही कर दिखाया है अमेठी की कीर्ति शुक्ला ने. आज रोजगार की तलाश में दरबदर भटकते युवाओं-महिलाओं और अन्य लोगों समस्या अक्सर देखने को मिलती है. लेकिन कीर्ति शुक्ला आज बेरोजगारों का सहारा बनी है. उन्होंने आज कई परिवारों को रोजगार दिया है और आज कपड़े बनाकर कीर्ति शुक्ला खुद रोजगार से जुड़ने के साथ अन्य महिलाओं के चेहरे पर मुस्कान बिखेररही है.

कीर्ति शुक्ला अमेठी जिले के ओरीपुर गांव की रहने वाली है. परास्नातक तक की पढ़ाई करने के बाद उन्होंने कई बार रोजगार के लिए इधर-उधर हाथ पांव मारे. कई कंपनियों में रोजगार की तलाश की. लेकिन उन्हें रोजगार नहीं मिला पढ़ाई लिखाई करने के बाद भी जब उन्हें सफलता नहीं मिली तो उन्होंने हार मानने की बजाय खुद ही रोजगार करने की ठानी और उद्योग विभाग और परिवार की सलाह पर उन्होंने विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के तहत सिलाई मशीन का आवेदन किया.

अपने हुनर को बनाएं पहचान

सिलाई मशीन का आवेदन करने के साथ पहले उन्होंने अपने साथ करीब तीन महिलाओं को योजना में लाभ दिलवाया और छोटे स्थान पर कपड़े बनाने का काम शुरू किया. आज यही काम कीर्ति शुक्ला के लिए एक बड़ा व्यवसाय हो गया है और कीर्ति शुक्ला कपड़े बनाने का काम कर करके अच्छा खासा मुनाफा कमा रही है. उन्होंने अपने इस व्यवसाय में अन्य लोगों को भी रोजगार दिया है. इनके कपड़े बनाने के संस्थान में महिलाएं सूट शर्ट पैंट और अन्य कपड़े तैयार कर उससे अच्छा खासा मुनाफा कमाती है.

हर महिला के पास होना चाहिए रोजगार

कीर्ति शुक्ला ने बताया कि आज के समय में रोजगार सभी के पास होना चाहिए बिना रोजगार के और पैसों के जीवन चलना बेहद मुश्किल है. इसलिए हमने न सिर्फ अपना फायदा सोचा बल्कि गांव की बेरोजगार महिलाओं में रोजगार से जोड़ा और आज भी अपने घर के काम करने के साथ रोजगार से जुड़कर मुनाफा कमा रही हैं. इसमें विभागीय सहयोग भी मिला इसके कारण आज हम यहां तक पहुंच सके.
.Tags: Amethi news, Local18, UP newsFIRST PUBLISHED : September 18, 2023, 23:43 IST

[ad_2]

Source link